आँखों से न ओझल थे, पहले अपने, अपने थे, एक घर में आज कई टुकड़े है, सब एक दूसरे से उखड़े है..

Spread the love

आँखों से न ओझल थे,
पहले अपने, अपने थे,
एक घर में आज कई टुकड़े है,
सब एक दूसरे से उखड़े है..