कौन कहता है की अलग -अलग रहते है, हम और तुम हमारी यादो के सफर मे, हम सफर हो तुम ज़िन्दगी से बेखबर हो तुम, हमारे दिल मे बसी इस कदर हो तुम..

Spread the love

कौन कहता है की अलग -अलग रहते है,
हम और तुम हमारी यादो के सफर मे,
हम सफर हो तुम ज़िन्दगी से बेखबर हो तुम,
हमारे दिल मे बसी इस कदर हो तुम..