क्या अजीब सी ज़िद है.. हम दोनों की, तेरी मर्ज़ी हमसे जुदा होने की.. और मेरी तेरे पीछे तबाह होने की..

Spread the love

क्या अजीब सी ज़िद है..
हम दोनों की,
तेरी मर्ज़ी हमसे जुदा होने की..
और मेरी तेरे पीछे तबाह होने की..