Yaadein Shayari

सफर-ए-ज़िन्दगी पे हूँ , तुम भी मेरे संग चलो सदिओं का रास्ता लम्हों में कटे , ले कर कुछ ऐसी तरंग चलो ज़िन्दगी को बहुत तड़पा हूँ अब तो बन के ज़िन्दगी की उमंग चलो कुछ तो रंगीनीआ हो फ़िज़ाओं में , भर ते कुछ रंग चलो

Spread the love

सफर-ए-ज़िन्दगी पे हूँ , तुम भी मेरे संग चलो
सदिओं का रास्ता लम्हों में कटे , ले कर कुछ ऐसी तरंग चलो
ज़िन्दगी को बहुत तड़पा हूँ अब तो बन के ज़िन्दगी की उमंग चलो
कुछ तो रंगीनीआ हो फ़िज़ाओं में , भर ते कुछ रंग चलो

हर पल हर लम्हा ख़ुशी के नगमे होंगे, गम जो सताये तो थामेंगे हाथ जो अपने होंगे, जब पाओगे खुद को तनहा, उठा के नज़र देखना हम ही हम होंगे |

Spread the love

हर पल हर लम्हा ख़ुशी के नगमे होंगे,
गम जो सताये तो थामेंगे हाथ जो अपने होंगे,
जब पाओगे खुद को तनहा,
उठा के नज़र देखना हम ही हम होंगे |

उमर की राह मे रस्ते बदल जाते हैं, वक्त की आंधी में इन्सान बदल जाते हैं, सोचते हैं तुम्हें इतना याद न करें, लेकिन आंखें बंद करते ही इरादे बदल जाते

Spread the love

उमर की राह मे रस्ते बदल जाते हैं,
वक्त की आंधी में इन्सान बदल जाते हैं,
सोचते हैं तुम्हें इतना याद न करें,
लेकिन आंखें बंद करते ही इरादे बदल जाते

तुमहारी दुनिया से चले जाने के बाद हम तुम्हे हर एक तारे मेँ नज़र आया करेगेँ तुम हर पल कोई दुआ मांग लेना ओर हम हर बार टुट जाया करेँगे

Spread the love

तुमहारी दुनिया से चले जाने के बाद
हम तुम्हे हर एक तारे मेँ नज़र आया करेगेँ
तुम हर पल कोई दुआ मांग लेना
ओर हम हर बार टुट जाया करेँगे

दूर रहकर हमसे वास्ता रखना , मुलाकात ना सही बातों का सिलसिला चालू रखना , छू लो आसमां को तुम हमारी यही तमन्ना है, पर हम तक वापस आने का रास्ता बनाये रखना

Spread the love

दूर रहकर हमसे वास्ता रखना ,
मुलाकात ना सही बातों का सिलसिला चालू रखना ,
छू लो आसमां को तुम हमारी यही तमन्ना है,
पर हम तक वापस आने का रास्ता बनाये रखना

सारी गलतियाँ मेरी, सारे कसूर मेरे सारी कमियां मुझमें, सारे दोष भी मेरे तुम तो अच्छे हो न, याद ही कर लिया करो

Spread the love

सारी गलतियाँ मेरी, सारे कसूर मेरे
सारी कमियां मुझमें, सारे दोष भी मेरे
तुम तो अच्छे हो न, याद ही कर लिया करो

पैगाम तो एक बहाना था इरादा तो आपको याद दिलाना था आप याद करे या ना करे कोई बात नही पर आपकी याद आती है बस इतना ही हमने आपको बताना था

Spread the love

पैगाम तो एक बहाना था
इरादा तो आपको याद दिलाना था
आप याद करे या ना करे कोई बात नही
पर आपकी याद आती है
बस इतना ही हमने आपको बताना था

अपनी सांसों में महकता पाया है तुझे, हर खवाब मे बुलाया है तुझे, क्यू न करे याद तुझ को, जब खुदा ने हमारे लिए बनाया है तुझे..

Spread the love

अपनी सांसों में महकता पाया है तुझे,
हर खवाब मे बुलाया है तुझे,
क्यू न करे याद तुझ को,
जब खुदा ने हमारे लिए बनाया है तुझे..