जिसमे याद ना आए वो तन्हाई किस काम की, बिगड़े रिश्ते ना बने तो खुदाई किस काम की, बेशक इंसान को ऊंचाई तक जाना है, पर जहाँ से अपने ना दिखें वो उँचाई किस काम की।


Zindagi Shayari

जिसमे याद ना आए वो तन्हाई किस काम की, बिगड़े रिश्ते ना बने तो खुदाई किस काम की, बेशक इंसान को ऊंचाई तक जाना है, पर जहाँ से अपने ना दिखें वो उँचाई किस काम की। Please follow and like us:

February 28, 2017

जीना चाहा तो जिंदगी से दूर थे हम मरना चाहा तो जीने को मजबूर थे हम सर झुका कर कबूल कर ली हर सजा बस कसूर इतना था कि बेकसूर थे हम।


Zindagi Shayari

जीना चाहा तो जिंदगी से दूर थे हम मरना चाहा तो जीने को मजबूर थे हम सर झुका कर कबूल कर ली हर सजा बस कसूर इतना था कि बेकसूर थे हम।   Please follow and like us:

February 28, 2017

सपनों की मंज़िल पास नहीं होती; ज़िंदगी हर पल उदास नहीं होती; ख़ुदा पे यकीन रखना मेरे दोस्त; कभी-कभी वो भी मिल जाता है जिसकी आस नहीं होती


Zindagi Shayari

सपनों की मंज़िल पास नहीं होती; ज़िंदगी हर पल उदास नहीं होती; ख़ुदा पे यकीन रखना मेरे दोस्त; कभी-कभी वो भी मिल जाता है जिसकी आस नहीं होती   Please follow and like us:

February 28, 2017

मुस्कारने के मकसद न ढूँढ, वर्ना जिन्दगी यूँ ही कट जाएगी, कभी बेवजह भी मुस्कुरा के देख, तेरे साथ साथ जिन्दगी भी मुस्कुरायेगी


Zindagi Shayari

मुस्कारने के मकसद न ढूँढ, वर्ना जिन्दगी यूँ ही कट जाएगी, कभी बेवजह भी मुस्कुरा के देख, तेरे साथ साथ जिन्दगी भी मुस्कुरायेगी। Please follow and like us:

February 28, 2017

सियासी आदमी की शक्ल तो प्यारी निकलती है; मगर जब गुफ़्तगू करता है चिंगारी निकलती है; लबों पर मुस्कुराहट दिल में बेज़ारी निकलती है; बड़े लोगों में ही अक्सर ये बीमारी निकलती है।


Zindagi Shayari

सियासी आदमी की शक्ल तो प्यारी निकलती है; मगर जब गुफ़्तगू करता है चिंगारी निकलती है; लबों पर मुस्कुराहट दिल में बेज़ारी निकलती है; बड़े लोगों में ही अक्सर ये बीमारी निकलती है। Please follow and like us:

February 28, 2017

देख मेरी आँखों में ख्वाब किसके हैं, दिल में मेरे सुलगते तूफ़ान किसके हैं, नहीं गुज़रा कोई आज तक इस रास्ते से, फिर ये क़दमों के निशान किसके हैं।


Zindagi Shayari

देख मेरी आँखों में ख्वाब किसके हैं, दिल में मेरे सुलगते तूफ़ान किसके हैं, नहीं गुज़रा कोई आज तक इस रास्ते से, फिर ये क़दमों के निशान किसके हैं। Please follow and like us:

February 28, 2017

वक़्त कहता है फिर ना आऊगा, आप की आँखों को न अब रूलाऊगा, जीना है तो इस पल को जी लो, शायद मै कल तक ना रूक पाऊगा।


Zindagi Shayari

वक़्त कहता है फिर ना आऊगा, आप की आँखों को न अब रूलाऊगा, जीना है तो इस पल को जी लो, शायद मै कल तक ना रूक पाऊगा। Please follow and like us:

February 28, 2017

जाने मेरी मंजिलो के रास्ते कौनसे है, चल तो रहे है कदम पर दायरे कौनसे है, क्या ढूँढती है नज़र हर पल, कौन अपने और पराये कौन से है ।।


Zindagi Shayari

जाने मेरी मंजिलो के रास्ते कौनसे है, चल तो रहे है कदम पर दायरे कौनसे है, क्या ढूँढती है नज़र हर पल, कौन अपने और पराये कौन से है ।। Please follow and like us:

February 28, 2017

मंज़िल इन्सान के हौसले आजमाती है, सपनों के परदे आँखों से हटाती है, किसी भी बात से हिम्मत मत हारना, ठोकर ही इन्सान को चलना सिखाती हैं।


Zindagi Shayari

मंज़िल इन्सान के हौसले आजमाती है, सपनों के परदे आँखों से हटाती है, किसी भी बात से हिम्मत मत हारना, ठोकर ही इन्सान को चलना सिखाती हैं। Please follow and like us:

February 28, 2017

जिन्दगी हसीन है जिन्दगी से प्यार करो, है रात तो सुबह का इतजार करो, वो पल भी आऐगा जिसका इतजार हैं आप को, रब पर भरोसा और वक्त पे ऐतबार रखो।


Zindagi Shayari

जिन्दगी हसीन है जिन्दगी से प्यार करो, है रात तो सुबह का इतजार करो, वो पल भी आऐगा जिसका इतजार हैं आप को, रब पर भरोसा और वक्त पे ऐतबार रखो। Please follow and like us:

February 28, 2017