तुम नफरतों के धरने, क़यामत तक ज़ारी रखो, मैं मोहब्बत से इस्तीफ़ा, मरते दम तक नहीं दूंगी..


Love Shayari / Wednesday, March 8th, 2017

तुम नफरतों के धरने,
क़यामत तक ज़ारी रखो,
मैं मोहब्बत से इस्तीफ़ा,
मरते दम तक नहीं दूंगी..

Please follow and like us:

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

fifteen − ten =