हम जीते है खुशिया पाने के लिए, ए दोस्त तू हाथ बढाके तो देख, क्या होती है ख़ुशी, हम बैठे है इसका ऐसास दिलाने के लिए..


Dosti Shayari / Tuesday, March 7th, 2017

हम जीते है खुशिया पाने के लिए,
ए दोस्त तू हाथ बढाके तो देख,
क्या होती है ख़ुशी,
हम बैठे है इसका ऐसास दिलाने के लिए..

Please follow and like us:

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

1 × one =