आशाएं ऐसी हो जो-मंज़िल तक ले जाएँ, मंज़िल ऐसीहो जो-जीवन जीना सीखा दे, जीवन ऐसा हो जो-संबंधों की कदर करे, और संबंध ऐसे हो जो-याद करने को मजबूर कर दे,


Yaadein Shayari / Saturday, March 4th, 2017

आशाएं ऐसी हो जो-मंज़िल तक ले जाएँ,
मंज़िल ऐसीहो जो-जीवन जीना सीखा दे,
जीवन ऐसा हो जो-संबंधों की कदर करे,
और संबंध ऐसे हो जो-याद करने को मजबूर कर दे,

Please follow and like us:

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

8 + 19 =