वो हर बार अगर रूप बदल कर न आया होता, धोका मैने न उस शख्स से यूँ खाया होता, रहता अगर याद कर तुझे लौट के आती ही नहीं, ज़िन्दगी फिर मैने तुझे यु न गवाया होता..


Yaadein Shayari / Wednesday, March 1st, 2017

वो हर बार अगर रूप बदल कर न आया होता,
धोका मैने न उस शख्स से यूँ खाया होता,
रहता अगर याद कर तुझे लौट के आती ही नहीं,
ज़िन्दगी फिर मैने तुझे यु न गवाया होता..

Please follow and like us:

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

twenty − 9 =