चैन मिल जाए दो घड़ी के लिए, कम नहीं मेरी ‪‎जिन्दगी‬ के लिए । कितने सामान कर लिए पैदा, इतनी छोटी जिन्दगी के लिए।


Zindagi Shayari / Tuesday, February 28th, 2017

चैन मिल जाए दो घड़ी के लिए,
कम नहीं मेरी ‪‎जिन्दगी‬ के लिए ।
कितने सामान कर लिए पैदा,
इतनी छोटी जिन्दगी के लिए।

Please follow and like us:

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

twelve − four =