किसी की मजबूरियाँ पे न हँसिये, कोई मजबूरियाँ ख़रीद कर नहीं लाता, डरिये वक़्त की मार से, बुरा वक़्त किसीको बताकर नही आता..


Zindagi Shayari / Tuesday, February 28th, 2017

किसी की मजबूरियाँ पे न हँसिये,
कोई मजबूरियाँ ख़रीद कर नहीं लाता,
डरिये वक़्त की मार से,
बुरा वक़्त किसीको बताकर नही आता..

Please follow and like us:

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

fourteen + thirteen =