ए पलक तु बन्‍द हो जा, ख्‍बाबों में उसकी सूरत तो नजर आयेगी, इन्‍तजार तो सुबह दुबारा शुरू होगी, कम से कम रात तो खुशी से कट जायेगी|


Good Night Shayari / Tuesday, February 7th, 2017

ए पलक तु बन्‍द हो जा,
ख्‍बाबों में उसकी सूरत तो नजर आयेगी,
इन्‍तजार तो सुबह दुबारा शुरू होगी,
कम से कम रात तो खुशी से कट जायेगी|

Please follow and like us:

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

seventeen + fourteen =